Sat. Oct 19th, 2019

उधोग बंद करने के अलावा कोई विकल्प नही, उधोग वाणिज्य संघ रूपन्देही द्धारा सरकार के खिलाप विरोध प्रदर्शन

भैरहवा शिद्धार्थ नगर , हिमालिनी संवादाता रूपन्देही | रूपन्देही जिला भैरहवा में उधोग वाणिज्य संघ रूपन्देही ने प्रधानमंत्री को संबोधित करके सभी नियमो को वापस लिए जाने हेतू ज्ञापन पत्र रुपन्देही प्रमुख जिल्ला अधिकारी अर्जुन प्रसाद पोख्रेल को सौपा है | जिसमे शिद्धार्थ उधोग वाणिज्य संघ रूपन्देही अध्यक्ष कुलप्रसाद न्यौपाने ने कहा कि उधोगपतियों को उत्साहित करने नए उधोग लगाने के विपरीत सरकार नए नए नियम और कानून ला रही है। जिससे उधोगपति परेशान हो रहे है। और उधोग को बंद करने के अलावा कोई दूसरा विकल्प नही है। अपने पत्र में एक हजार से अधिक देनदारी पर पान नम्बर दर्ता की अनिवार्यता, वाहन ट्रैकिंग ग्रामीण और शहरी क्षेत्र से दूर रखने, भाड़ा में कर वसूली सहित दस सूत्री मांग पत्र सौपा ।
इसके पहले व्यापारियों ने विरोध रैली निकाल कर सरकार के इस नियम के विरोध में प्रदर्शन किया। और सारे नियम वापस लिए जाने की मांग किया है। नेपाल सरकार द्वारा लागू किए गए नए नियम के तहत बुधवार को भारत से नेपाल मालवाहक वाहन नही गए। सड़को पर सन्नाटा पसरा रहा। इधर नेपाल ट्रक व्यवसायी समिति  इस नए आदेश के खिलाफ अनिश्चित कॉलिन हड़ताल पर है। नेपाल उधोग वाणिज्य महासंघ रूपन्देही के अध्यक्ष गुणनिधि तिवारी ने बताया कि सरकार द्वारा जारी किए गए नए कानून के तहत भन्सार में एजेंट का और वाणिज्य संघ में उधोगपतियो के आर्थिक वर्ष नवीनीकरण में बहुत अड़चने आ रही है। अगर ऐसा ही रहा तो उधोग बन्द करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि सभी भारतीय ट्रक चालक के पास स्मार्ट फोन नही होता है। ट्रैकिंग नही होगा तो माल पास नही होगा। बिरोध कार्यक्रम में उधोग बाणिज्य महासंघ केंद्रीय सदस्य राजेश अग्रवाल, संघका बरिष्ठ उपाध्यक्ष भिष्म न्यौपाने, उधोग उपाध्यक्ष अरुण गोयनका, बाणिज्य उपाध्यक्ष ठाकुर कुमार श्रेष्ठ, संघका भुतपुर्ब अध्यक्ष महेन्द्र कुमार श्रेष्ठ, प्रदेशका दिपक पौडेल, लुम्बिनी ट्र्रक ब्यावसायी संघका अध्यक्ष बिष्णु खरेल, ईट्टा ब्यावसायी संघ महासचिव अजय कुमार गुप्ता लगायत अन्य वरिष्ठ उधोग ब्यावसायी रहे ।

Chat Conversation End

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *