Tue. Oct 22nd, 2019

पाकिस्तान अर्थव्यवस्था काे सुधारने के लिए करेगा कुत्ताें का व्यापार

 

कुछ समय पहले पाकिस्तान ने गधों के जरिए राजस्व कमाने का प्लान बनाया था और उसने पाकिस्तान से चीन को गधे निर्यात करने की योजना बनाई थी।  पाकिस्तान दुनिया में ऐसा तीसरा देश है जहां सबसे ज्यादा गधे हैं। पाकिस्तान में 50 लाख गधे हैं जबकि चीन में सबसे ज्यादा गधों की संख्या है। अब सिंध प्रांत ने इमरान सरकार को कुत्तों को बेचकर राजस्व बढ़ाने की सलाह दी है।

महंगाई के कारण पाकिस्तान की जनता में हाहाकार मचा हुआ है। अब दिवालिए पाकिस्तान ने अर्थव्यवस्था को सुधारने के लिए नई योजना बनाई है। पाकिस्तान सरकार कुत्तों के जरिए राजस्व बढ़ाने की योजना बना रही है।

पाकिस्तान के सिंध प्रांत की एसेंबली में एक बिल पेश किया है। इस बिल में पाकिस्तान के कुत्तों को चीन और फिलीपीन्स बेचने की बात कही गई है। कुछ समय पहले पाकिस्तान ने गधों के जरिए राजस्व कमाने का प्लान बनाया था और उसने पाकिस्तान से चीन को गधे निर्यात करने की योजना बनाई थी।

पाकिस्तान दुनिया में ऐसा तीसरा देश है जहां सबसे ज्यादा गधे हैं। पाकिस्तान में 50 लाख गधे हैं जबकि चीन में सबसे ज्यादा गधों की संख्या है। अब सिंध प्रांत ने इमरान सरकार को कुत्तों को बेचकर राजस्व बढ़ाने की सलाह दी गई है।
सिंध प्रांत में पेश किए गए बिल के अनुसार पाकिस्तान के गली-मोहल्लों में इतनी बड़ी संख्या में स्ट्रीट डॉग घूम रहे हैं कि अगर उन्हें ढंग से पाल पोसकर ब्रीडिंग करवाए और चीन को बेचें तो पाकिस्तान के गली-मोहल्ले भी पाक हो जाएंगे और माली हालात भी सुधर जाएगी।

पिछले दिनों अंतरराष्ट्रीय मुद्दा कोष ने कहा था कि अगर पाकिस्तान ब्लैक लिस्ट में आता है तो उसे कर्ज मिलने में काफी परेशानी होगी। पाकिस्तान के ब्लैक लिस्टेड होने से उसे आईएमएफ से मिलने वाले 6 अरब डॉलर के कर्ज पर भी रोक लगाई जा सकती है।
पाक का कर्ज 10 साल में 6,000 अरब पाकिस्तानी रुपए से बढ़कर 30 हजार अरब पाकिस्तानी रुपए तक पहुंच गया है। यह कर्ज पाक के कुल जीडीपी का 91.2 प्रतिशत है। परिणामस्वरूप अमेरिकी डॉलर की कमी हो गई तथा महंगाई आसमान छू रही है तथा यह 1 साल में 11 प्रतिशत हो गई है। पाकिस्तान पर डिफॉल्टर होने का खतरा भी मंडरा रहा है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *