Mon. Oct 7th, 2019

ईरान की खूबसूरत फुटवाल फैन की माैत ने दुनिया काे हिला कर रख दिया

खेलों के प्रति दीवानगी न तो मजहब देखती है और न ही महिला-पुरुष का भेद जानती है। ईरान की ये खूबसूरत फुटबाल फैन इससे वाकिफ थी। वो इस दकियानूसी इस्लामी कानून को चुनौती देना चाहती है। जीते-जी तो वो ऐसा नहीं कर सकी, लेकिन उसकी मौत ने ईरान को हिलाकर रख दिया। इस फुटबॉल फैन की मौत के बाद पूरी दुनिया में ईरान की जबदरस्त किरकिरी हुई। इसके बाद ईरान ने अपने इस्लामी कानून में बड़ा बदलाव किया है, जिसका पहला और सबसे बड़ा नजारा 10 अक्टूबर को दिखने वाला है।

ईरान की इस खूबसूरत फुटबॉल फैन का नाम है सहर खोडयारी। 29 वर्षीय सहर ने केवल इसलिए मौत को गले लगा लिया, क्योंकि वह तेहरान के आजादी स्टेडियम में अपनी पसंदीदा टीम को फुटबॉल मैच खेलते देखना चाहती थी। ईरान के इस्लामिक कानून के मुताबिक, महिलाओं का खेल के मैदान में जाकर मैच देखना प्रतिबंधित है। ऐसा करने पर उन्हें सजा देने का भी प्रावधान है।

कम्प्यूटर साइंस में ग्रेजुएट सहर, ईरानी कानून से भलीभांति वाकिफ थी। बावजूद वह अपनी पसंदीदा फुटबॉल टीम को अपनी आंखों के सामने स्टेडियम में खेलते देखना चाहती थी। मार्च 2019 में उसकी फेवरेट फुटबॉल टीम एस्टेगलल (Esteghlal) का आजादी स्टेडियम में मैच था। एस्टेगलल, ईरान का ही एक फुटबॉल क्लब है। मैच देखने के लिए सहर ने पुरुषों की ड्रेस पहनी और नीले रंग का विग लगाकर ऊपर से लंबा ओवरकोट डाल लिया।

सोशल मीडिया बनी मौत की वजह

सुरक्षा बंदोबश्त को चकमा देकर सहर स्टेडियम में प्रवेश करने में कामयाब रही। स्टेडियम में मैच देखने के दौरान उसने बालों पर से नीली विग उतार दी। पुरुषों की ड्रेस में स्टेडियम में मैच का लुत्फ ले रही सहर की फोटो मैच के दौरान ही सोशल मीडिया पर वायरल हो गईं। इसका पता चलते ही सुरक्षा बलों ने सहर को स्टेडियम के अंदर मैच के दौरान ही गिरफ्तार कर लिया।

कोर्ट गेट पर किया आत्मदाह

इसके बाद मामले में कोर्ट ने सहर को समन जारी कर दिया। समन पाकर सहर कोर्ट पहुंची और वहीं, कोर्ट के बाहर आत्मदाह कर लिया। गंभीर हालत में उसे तेहरान के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया। सहर 90 फीसद से ज्यादा जल चुकी थी, लिहाजा अस्पताल में इलाज के दौरान करीब दो सप्ताह बाद उसने दम तोड़ दिया।

मरने के बाद पूरी हुई हसरत

सहर, चाहती थी कि दुनिया की करोड़ों महिलाओं की तरह ही ईरान में भी महिलाओं को अपनी पसंदीदा टीम को स्टेडियम में खेलते हुए देखने का अधिकार मिलना चाहिए। महिलाएं आजादी से स्टेडियम में मैच का मजा ले सकें। जिंदा रहते हुए सहर की ये इच्छा पूरी नहीं हो सकी, लेकिन उसकी मौत ने ईरान सरकार को इस्लामी कानून में बड़ा परिवर्तन करने को मजबूर कर दिया।

पूरी दुनिया में ईरान के खिलाफ फूटा गुस्सा

सहर की मौत के बाद पूरी दुनिया की सोशल मीडिया पर ईरान के प्रति गुस्सा फूट पड़ा। ईरान की महिलाओं ने इस भेदभाव पूर्ण कानून के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद की। दुनिया भर के फुटबॉल क्लब और कई सेलिब्रिटीज ने भी सहर की मौत पर दुख जताते हुए ईरान के इस भेदभाव पूर्ण कानून की निंदा की। फीफा (FIFA) ने भी इस कानून और सहर की मौत पर आपत्ति जताई थी। चौतरफा दबाव के बाद ईरान ने अब महिलाओं के स्टेडियम में प्रवेश करने संबंधी पाबंदी हटा ली है।

दो दिन बाद उसी स्टेडियम में होना है फुटबॉल मैच

सरकार द्वारा महिलाओं पर से हटाई गई पाबंदी के साथ ये भी घोषणा की गई है कि दो दिन बाद 10 अक्टूबर को तेहरान के आजादी स्टेडियम में ही होने वाले फुटबॉल मैच में महिलाओं को प्रवेश दिया जाएगा। 10 अक्टूबर को आजादी स्टेडियम में ईरान का कंबोडिया के साथ मैच होना है। इसी आजादी स्टेडियम में सहर को फुटबॉल मैच देखते हुए गिरफ्तार किया गया था।

उसी स्टेडियम में मैच देखेंगी 3500 महिलाएं

ईरान ने कंबोडिया संग होने वाले फुटबॉल मैच में महिलाओं के लिए 3500 टिकट आरक्षित की थी। सरकार की घोषणा के बाद एक घंटे के भीतर ही महिलाओं की ये सभी टिकट बिक गई। सरकारी ईरानी समाचार एजेंसी इरना ने चार अक्टूबर को सरकार के इस फैसले की पुष्टि की है। न्यूज एजेंसी इरना के अनुसार ईरानी फुटबॉल फेडरेशन ने फीफा से भी वादा किया है कि 10 अक्टूबर को आजादी स्टेडियम में होने वाले फुटबॉल मैच के दौरान महिलाओं को प्रवेश दिया जाएगा। महिलाओं के बैठने के लिए स्टेडियम में 3 अतिरिक्त लाइनें बनी हैं।

2022 क्वार्टर फाइनल की तैयारी में जुटा ईरान

10 अक्टूबर को होने वाले मैच के लिए महिलाओं की सभी टिकट एक घंटे के अंदर बिकने के बाद ईरान ने अब 2022 में होने वाले वर्ल्ड कप की तैयारी शुरू कर दी है। ईरान ने 2022 फीफा वर्ल्ड कप क्वार्टर फाइनल के दौरान स्टेडियम में महिलाओं की सीट बढ़ाने का फैसला लिया है। इसके लिए अभी से तैयारी शुरू कर दी गई हैं।

मैच में मौजूद रहेंगे फीफा अधिकारी

न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के अनुसार फीफा अधिकारियों ने दावा किया था कि 10 अक्टूबर को तेहरान के आजादी स्टेडियम में होने वाले फुटबॉल मैच के लिए 4600 महिलाओं की टिकट आरक्षित होगी। फीफा ने पहले ही उम्मीद से ज्यादा मांग रहने की उम्मीद जताई थी। फीफा ने कहा है कि मैच के दौरान उसके पर्यवेक्षक स्टेडियम में मौजूद रहेंगे और ये सुनिश्चित करेंगे कि महिलाएं बिना किसी रोकटोक के फुटबॉल मैच का आनंद ले रही हों।

द ब्लू गर्ल

सहर पूरी दुनिया में ब्लू गर्ल के नाम से भी मशहूर है। ऐसा इसलिए, क्योंकि उसकी पसंदीदा टीम एस्टेगलल का रंग भी नीला है। अपनी पसंदीदा टीम को सपोर्ट करने के लिए स्टेडियम में जाने के दौरान सहर ने ब्लू रंग की पोशाक और ब्लू विग लगाई थी। इसी पोशाक और विग में उसकी तस्वीर वायरल हुई थी। इसके बाद से वह ‘द ब्लू गर्ल’ के नाम से प्रसिद्ध हो गई।

दैनिक जागरण से

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *