Thu. Jun 4th, 2020

जापान में छह दशक के सबसे भीषण तूफान हेगिबिस ने जमकर ढाया कहर, 43 की मौत, डेढ़ दर्जन से अधिक लापता

  • 448
    Shares

टोक्यो, एपी/रायटर।

 

जापान में छह दशक के सबसे भीषण तूफान हेगिबिस ने जमकर कहर ढाया है। तूफानी बारिश से कई नदियों में बाढ़ आ गई है। 225 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाओं और बाढ़ की चपेट में आकर 43 लोगों की जान चली गई। डेढ़ दर्जन से ज्यादा लोग लापता हैं। बाढ़ के कारण अपने घरों में फंसे लोगों को बचाने के लिए सरकार ने सेना के हजारों जवानों को हेलीकॉप्टरों और नौकाओं के साथ बचाव कार्यो में लगाया है। देश में करीब पांच घरों में बिजली गुल है। देश में कई नदियां खतरे की निशान से उपर बह रही हैं।

यह भी पढें   भारत और चीन में बढते तनाव के बीच सीमा पर सुखोई और मिराज जैसे युद्धक विमान तैनात

हाकोने में भारी बारिश

तूफान की वजह से जापान के कई इलाकों में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हो रही है। पर्यटकों के बीच मशहूर हाकोने शहर में तो बीते 24 घंटों में 37 इंच (करीब तीन फीट) बारिश हो चुकी है। सरकारी न्यूज एजेंसी एनएचके के अनुसार, 14 नदियों में बाढ़ आ गई है। नदियों के तटबंध टूटने से कई रिहायशी इलाकों में पानी भर गया है। हेगिबिस शनिवार को राजधानी टोक्यो के दक्षिण में स्थित तट से टकराया था। इसने मध्य, पूर्वी और उत्तरी जापान में जमकर तबाही मचाई है। इन इलाकों के करीब पांच लाख घरों की बिजली गुल हो गई है।

यह भी पढें   विदेशों से आनेवाले नागरिकों की व्यवस्थापन–जिम्मेदारी नेपाली सेना को

बुलेट ट्रेन और विमान सेना प्रभावित

बुलेट ट्रेन और विमान सेवाएं भी बुरी तरह प्रभावित हुई हैं। तूफान से देश में आयोजित हो रहे रग्बी विश्व कप पर भी असर पड़ा है। कामेशी में रविवार को नामीबिया और कनाडा के बीच होने वाला मुकाबला रद करना पड़ा। इससे पहले शनिवार को भी दो मुकाबले रद कर दिए गए थे।

अक्सर आते रहते हैं भूकंप और चक्रवात

जापान भूकंप और चक्रवात के लिहाज से बेहद संवेदनशील है। देश में हर साल करीब 20 तूफान आते हैं। एक महीने पहले आए फेक्साई तूफान ने टोक्यो के आसपास खासकर चिबा में भारी तबाही मचाई थी। हेगिबिस की तुलना 1958 में आए अब तक के सबसे भीषण चक्रवात से की जा रही है। उस तूफान की चपेट में आकर 1200 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: