Sun. Jul 12th, 2020

माघे संक्रान्ति की छुट्टी काटकर जनजाति ऊपर अन्यायः मगर संघ

  • 217
    Shares

१४ जनवरी, काठमाड । नेपाल मगर सङ्घ द्वारा माघे सक्रान्ति में सार्वजनिक छुट्टी देने की मांग की गई है । एक पत्रकार सम्मेलन करते हुए संघ का अध्यक्ष नवीन रोका मगर ने कहा कि माघे संक्रान्ति मगर समुदाय के साथ–साथ समस्त नेपाली का पर्व है, इसीलिए माघ १ गते को सार्वजनिक छुट्टी होनी चाहिये ।
माघे संक्रान्ति के अवसर पर चार प्रदेश के सरकार ने सार्वजनिक छुट्टी दी है । रोका ने कहा कि माघे संक्रान्ति के अवसर पर मिल रही छुट्टी को काटकर सरकार ने जनजाति के ऊपर अन्याय किया है ।
इसी बीच मगर सङ्घ माघे संक्रान्ति के अवसर पर आगामी माघ १ और २ गते काठमांडू के टुँडीखेल में ‘माघे संक्रान्ति राष्ट्रीय चाड शुभकामना आदानप्रदान तथा मगर मौलिक सांस्कृतिक महोत्सव’ आयोजना किया है । बताया जा रहा है कि महोसत्व का उद्घाटन उपराष्ट्रपति नन्दबहादुर पुन करेंगे ।
संघ ने जानकारी दिया कि महोत्सव में मगर का मौलिक सांस्कृतिक प्रदर्शनी, मौलिक वेशभूषा, मौलिक खानपिन का प्रदर्शनी, धनुष बाण का खेल इत्यादि का आयोजन कर कार्यक्रम मनाया जायेगा ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: