Wed. May 27th, 2020

मोदी सरकार का अंतिम बजट, फेका ब्रह्मास्त्र, परेसान हुये विपक्ष

जिसका तुम्हें था इंतजार, वो घड़ी आ गई, आ गई…संसद के भीतर पीयूष गोयल का वो छक्का

…तो ये एलान कार्यवाहक वित्तमंत्री पीयूष गोयल के नाम ही लिखा था। आखिरी गेंद पर छक्का मारकर गोयल ने गेंद को एक नहीं कई-कई स्टेडियम कुदा दिया। सदन में मोदी-मोदी हो गया। एलान था-

5 लाख तक की आय पर कोई टैक्स नहीं”

इसके साथ ही आ गई वो घड़ी जिसका सबको इंतजार था। आखिरी बार साल 2014 में सरकार ने आयकर के स्लैब में बदलाव किया था। तब सीमा 2 से बढ़ाकर 2.5 लाख की गई थी। उसके बाद साल दर साल मध्यवर्ग उम्मीद भरी निगाहों से मोदी सरकार की ओर देखता रहा लेकिन हर बार मायूसी ही हाथ लगी। किसे पता था कि सारी मायूसी दूर करने का इंतजाम चुनावी साल में सौगात देकर किया जाएगा।

चुनाव से पहले आम नौकरीपेशा व्यक्ति के लिए ये सबसे बड़ा एलान है। ये सरकार का आखिरी बजट है। वो आखिरी बजट जो 2019 में आया है। वो 2019 जो सबसे बड़े चुनावी महासंग्राम के लिए याद रखा जाना है। ऐसे में सरकार की निगाह, आम आदमी की जेब में नोट बचाकर, पोलिंग बूथ पर वोट बटोरने की है।

यह भी पढें   संविधान संशोधन संबंधी विधेयक में सहमति कायम करने के लिए सभामुख ने किया आग्रह

बचाकर रखा था ब्रह्मास्त्र

बजट भाषण के दौरान एकबारगी तो लगा कि टैक्स स्लैब में कोई बदलाव नहीं होना है। चैनलों पर ब्रेकिंग न्यूज चल गई- इनकम टैक्स में कोई बदलाव नहीं।
लेकिन जैसे पीयूष गोयल ने भी ब्रह्मास्त्र बचाकर रखा था। बजट भाषण खत्म करने से ठीक पहले उन्होंने सरकार के कर संग्रह की बढ़ोतरी की बात करने के बाद एलान किया कि सीमा 2.5 लाख से सीधी दोगुनी यानी 5 लाख की जा रही है।

यह भी पढें   सप्तरी में मारपिट से २ व्यक्तियों की मृत्यु

गोयल ने भाषण के दौरान दो बार सर्जिकल स्ट्राइक पर बनी फिल्म ‘उरी’ के हाउ इज द जोश का जिक्र किया और आखिर में टैक्स स्लैब को बदलने की घोषणा के साथ वो सारा जोश संसद के भीतर और टीवी स्क्रीनों से निकलकर बाहर उलीचता भी दिखा।

ये सीमा लग भले 5 लाख तक रही हो लेकिन अगर किसी की आय 7 लाख भी है तो उस पर टैक्स का कोई बोझ नहीं पड़ेगा। 1.5 लाख के 80सी में निवेश के अलावा 50 हजार का स्टैंडर्ड डिडक्शन भी मिलेगा।
इसके अलावा जिस तरह सीमांत किसानों के लिए सीधे बैंक खाते में 6 हजार रुपये सालाना डालने की घोषणा की गई है, उससे सरकार का इरादा साफ है। चुनाव में जाने से पहले ये किसान, मजदूर और मध्यवर्ग तीनों को साध लेने का एक उपक्रम है जो फिलहाल सरकार को सबसे मुफीद जान पड़ता है।

यह भी पढें   *"प्रेम"... एक निर्मोही प्रेम,सीता का प्रेम... राधा का प्रेम...मीरा का प्रेम...यशोधरा का प्रेम..."*"नव्या"

बजट की खास बातें

और पढ़ें >

  • हम भारत की जनता के साथ मिलकर एक भव्य इमारत बननाना चाहते हैं। हमारी सरकार की नीति स्पष्ट है नियत साफ है और निष्ठा अटल है।

     

  • एफडी के ब्याज पर 40 हजार तक ब्याज पर कोई टैक्स नहीं

     

  • Budget 2019: बड़ी घोषणा 5 लाख रुपये तक टैक्स में छूट

     

  • 5 लाख रुपये तक टैक्स में छूट

     

  • महंगाई 10 फीसदी से 4 फीसदी पर आई। अगले साल का खर्च – 3.36 लाख करोड़। महंगाई कम की और योजनाओं पर ज्यादा खर्च किया गया।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: