Tue. Oct 15th, 2019

साग के साथ जुड़े नेपालियों का स्वास्थ्य : डॉ. रामदेव पंडित

हिमालिनी, अंक जनवरी 2019 | जीवन के लिए खाना जÞरूरी है । हर एक समुदाय की सन्तुलित या पौष्टिक उपज और आहार की अपनी सोच होती है । समुदाय की खान–पान की आदतें ज्यादातर स्थानीय खाने की चीजÞों की उपलब्धता और मौसम पर निर्भर करता है । खाना शरीर के बढ़ने में और विकास में मदद करता है । इससे तीन बुनियादी काम होते हैं ः

१. इससे ऊर्जा मिलती है ः कार्बोहाईड्रेट और वसा ऊर्जा प्रदान करते हैं । जैसे पेट्रोल गाडी की उर्जा है ।
२. विकास और मरम्मत ः प्रोटीन शरीर के विकास और मरम्मत के लिए जÞरूरी है । जैसे ईटे घर की दीवारे बनाती है ।
३. कुछ विशेष कार्य ः विटामिन और खनिज पदार्थ विभिन्न तंत्रों को दुरूस्त रखते हैं ।
शरीर की ऊर्जा की जÞरूरत उम्र, लिंग, मौसम और काम के प्रकार के अनुसार बदलती है । शरीर को गर्मियों केमुकाबले सर्दियों में जÞ्यादा भोजन की जÞरूरत होती है ।
आर्युवेद में माना गया है कि अलग–अलग शारीरिक गठन के अनुसार भी शरीर की ऊर्जा की जÞरूरत अलग अलग है । कफ दोष वाले लोगों को कम कैलोरी की जÞरूरत होती है । पित्त दोष वालों को ज्यादा ऊर्जा की जÞरूरत होती है ।
आज नेपाली जनता जीने के लिये जो उपयोग कर रहे, यहाँ का वायु अत्यन्त प्रदूषित है, पानी दूषित है, खाना मिसावट युक्त एवं प्रशोधित और गुणस्तरहीन है । सब्जियाँ रसायनिक मल से ढके हुवे है । ऐसे परिवेश में हरेक कोे अपने स्वास्थ्य को बनाए रखना और जीवन को जीवन्त बना रखना सहज कदापि नही देखा जाता है । इस अवस्था मे स्वास्थ्य को सन्तुलित और जीवन को जीवन्त बनाने का उपाय साग का सम्यक प्रयोग सम्यक् साधन बन सकता है ।
कुदरत के दिये गये वरदानों में पेड़ पौधों का महत्वपूर्ण स्थान है । पेड़ पौधे मानवीय जीवन चक्र में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं । इसमें न केवल भोजन संबंधी आवश्यकताओं की पूर्ति ही होती बल्कि जीव जगत से नाजुक संतुलन बनाने में भी ये आगे रहते हैं, कार्बन चक्र हो या भोजना श्रृंखला के पिरामिड में भी ये सर्वोच्च स्थान ही हासिल करते हैं ।
सर्दियों में गरमा गर्म सरसों का साग और मक्के की रोटी का नाम सुनते ही किसी भी व्यक्ति के मुंह में भी पानी आ जाएगा । सर्दियों में मिलने वाला साग न सिर्फ खाने में टेस्टी होता है बल्कि इसमें मौजूद विटामिन, मिनरल, फाइबर, एंटीऑक्सीडेंट्स और फाइटोन्यूट्रिएंट्स हेल्थ के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं । इतना ही नहीं जो लोग अपना वजन कम करना चाहते हैं वो इस मौसम मिलने वाले साग का मजा दिल खोलकर ले सकते हैं । ये साग आपका वजन कम करने के साथ आपके चेहरे की झुर्रियों को भी गायब करता है ।
साग में मौजूद कई तरह के विटामिन और मिनरल्स बडी का मेटाबोलिज्म ठीक करने के साथ ब्लड सर्कुलेशन और वजन को बढ़ने से भी कंट्रोल करते हैं । इतना ही नहीं ठंड में जोड़ों के दर्द से परेशान लोग भी साग का सेवन करके इस दर्द में राहत पा सकते हैं । आइए जानते हैं सर्दियों में कौन सा साग खाने से सेहत को कौन सा फायदा होता है ।

चौलाई (नेपाली ःलट्टे) का साग ः
चौलाई के साग में मौजूद लायसिन नामक अमिनो एसिड बढ़ती उम्र के लक्षणों को रोककर आपकी दोस्ती खूबसूरत त्वचा से करवाता है । चौलाई में फाइटोन्यूट्रिएंट्स, एंटीआक्सीडेंट्स, मिनरल्स और कई तरह के विटामिन मौजूद होते हैं । इसका मतलब अगर आप सर्दियों में इस साग का सेवन करते हैं तो लंबे समय आपके चेहरे को झुर्रियों छू तक नहीं पाएंगी ।
जोड़ों का दर्द दूर करता है सरसों का सागः
सरसों के साग में कैलोरी और फैट की मात्रा जितनी कम होती है उतनी ही कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, पोटैशियम, विटामिन ए, सी, डी, बी(ज्ञद्द मैग्नीशियम, आयरन और कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है । इसमें मौजूद एंटीआक्सीडेंट बाडी को डिटाक्स करके बाडी की इम्यूनिटी बढ़ाते हैं ।
दिल को दुरुस्त रखता है पालक ः
पालक में प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, पाली सैचुरेटेड फैट, ओमेगाघ और ओमेगाट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं । पालक में कैलोरी बहुत कम होने की वजह से ब्लड प्रेशर कंट्रोल रहने के साथ दिल को सुरक्षा प्रदान करता है ।
पथरी के लिए बथुआ ः
सर्दियों में बथुआ का साग खाने से शरीर को विटामिन ए, कैल्शियम, फास्फोरस और पोटैशियम मिलता है । बथुआ के साग को रोजाना खाने से किडनी स्टोन का खतरा भी काफी कम हो जाता है ।
सुगर के लिए मेथी का सागः
मेथी को रोजाना खाने से शरीर में फालिक एसिड, विटामिन ए, विटामिन सी, पोटैशियम, आयरन, फास्फोरस और कैल्शियम काफी मात्रा पूरी होती है । यह फाइबर का सबसे अच्छा स्रोत है और आंतों को साफ रखने में मददगार साबित होता है ।
साग सस्ता होने से और इसका सहज रूप से होने से इसको नेपाली जनता प्रायः दैनिक रूप से मूल सब्जी के रूप में सेवन करते हैं । साग नेपाली जन जन का सभी मौसम का अनिवार्य सब्जी माना जाता है । साग को स्वस्थ्य सब्जी मानने के कारण इसको सभी स्वस्थ्य एवं अस्वस्थ्य व्यक्ति को सहज सेवन करना उचित होगा ।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *