Mon. Aug 10th, 2020

वाणी का संयम सुखी जीवन का मूलाधार है

  • 1.1K
    Shares

हिमालिनी  अंक जुलाई २०१९ | संयत व्यवहार रेशम की एक ऐसी डोरी है, जो सभी कल्याणमयी भावनाओं को एक लड़ी के रूप में आबद्ध करती है । मानव जीवन की सफलता संयत व्यवहार में ही निहित है । लक्ष्य या किसी निश्चित उद्देश्य को लेकर अग्रसर होनेवाले मनुष्य का जीवन बोली वाणी से ही संयत और सुखी होता है ।

१. मत बोलो– यदि आप मीठा नहीं बोल सकते ।
२. मत सुनो– यदि आप अपनी एवं अपनों की बुराई, आलोचना नहीं सुन सकते ।
३. मत देखो– यदि आप अच्छा एवं कटु सत्य नहीं देख सकते ।
४. मत सोचो– यदि आप अच्छा एवं भला एवं अच्छा नहीं सोच सकते ।

५. यथासम्भव मौन रहिए– अवश्य होने पर ही न्युनतम मीठे शब्दों में अपने भाव व्यक्त कीजिए और वह भी सामने वाले की मनोदशा देख एवं समझकर । वृद्धावस्था में आपके प्रत्येक शब्द, भाव का बहुधा विपरीतार्थ लिया जाता है । वाणी का संयम सुखी जीवन का मूलाधार है ।

६. आदेशात्मक भाषा से सदैव ही बचिए । मांगने की प्रवृत्ति का यथासम्भव ही नहीं, वरन पूर्णतः त्याग करिए । अपनी देह एवं स्वास्थ्य का दायित्व उस परमपिता पर छोड़ दीजिए, वह आप की अपरिहार्य आवश्यकताओं की आपूर्ति अवश्य होगा ।

यह भी पढें   भूमि लूटनेवाले वक्फ बोर्ड का ‘लैण्ड जिहाद’ ‘लव जिहाद’ से भी भयंकर : धिवक्ता हरि शंकर जैन

७. जब मिले, जैसा मिले और जितना मिले, बिना किसी प्रकार की आलोचना के ईश्वर का प्रसाद मानकर ग्रहण कर लेना चाहिए भोजन में किसी प्रकार का खोट न निकालना चाहिए । घृणित दृष्टि से अमृत भी विष बन जाता है ।

८. अपना एवं अपने क्रिया–कलापों का परिवार के सदस्यों पर न्यूनतम भार डालने का प्रयास कीजिए । अपनी आवश्यकताओं को घटाते रहिए, फिर देखिए घर में भी आप को वैराग्यमय जीवन का आनन्दपयोग प्राप्त होगा ।

९. उपेक्षा तथा अपमान, इन दोनों स्थितियों में यथासम्भव कोई प्रतिक्रिया मत कीजिए । मान–सम्मान जितना मिलना था, मिल गया, अब तो देहाभियान से रहित होने का समय आ गया है, इसीलिए अस्मिता बोध का परित्याग कर उस परम प्रभु की शरण ग्रहण कीजिए, जिसने आपको यहां तक पहुँचा दिया है । भजन एवं नाम जप सब प्रकार के दुःख से छुटकारा पाने का एक मात्र उपाय है ।

यह भी पढें   सत्ता नागरिकता के विषय को उलझा रही है -वृषेशचन्द्र लाल

१०. प्रेम देकर प्रेम, शान्ति देकर शान्ति एवं मान देकर मान ले । घृणा देकर घृणा की ओर न बढ़े ।

११. अपने भीतर झाँकिए । स्वदोष देखकर उनसे यथाशीघ्र छुटकारा पा लीजिए । दूसरों का दोष दर्शन सबसे बड़ा पाप है । अपने पर इसका भार न लादिए । दूसरों में दोष देखने पर वे दोष अपने अन्दर आ जाते है, अतः दैनिक बहुत सावधान रहने की आवश्यकता है ।

१२. यथासम्भव अपने दैनिक क्रिया–कलाप में नियमितता का अनुपालन कीजिए । शक्ति के अनुसार प्रातः भ्रमण अवश्य करिए । सामथ्र्य के अनुसार प्रणायाम एवं सुक्ष्म व्यायाम आप को चुस्त एवं दुरुस्त रखने में बड़ा भारी योगदान देगा ।

यह भी पढें   आज बलराम जयंती, आइए जानते हैं बलराम जयंती पर क्या करें,क्या न करें

१३. दृढ इच्छा शक्ति एवं सकारात्मक सोच से शारीरिक मानसिक एवं भौतिक रोगों पर विजय प्राप्त कीजिए ।

१४. मन की एकाग्रता के लिए गहरा श्वास लेते हुए उसके साथ अपने इष्ट का मन्त्र जप कीजिए । इष्ट अथवा इच्छा विग्रह का मानसिक दर्शन करते हुए हरिनाम जपिए । हरिनाम से बड़ा और कोई सहारा नहीं है ।

१५. श्री मद्भागवत गीता के बारहवें अध्याय के श्लोक संख्या तेरह–चौदह का मनन कीजिए और उसे अपने जीवन में उतारने की चेष्टा कीजिए परम शान्ति प्राप्त होगी ।

१६. निजी सामथ्र्य एवं शक्ति के अनुसार सेवा अवश्य कीजिए, जो भी कार्य करें, उसे परमपिता की सेवा मानकर उसी को समर्पित कर दीजिए । कर्तव्य बुद्धि से किया गया अपना देह संबंधी प्रत्येक कार्य भी उस परम प्रभु की सेवा ही है । सेवा ही परमो धर्म ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: