Wed. May 27th, 2020

तुमतक पहुँचती कहाँ है वादी-ए-सबा गुंचा-ए-दिल,अपनी आरजू लिखूँ, चाहे अपना इन्तजार लिखूँ

  • 175
    Shares

प्रणय दिवस पर संजय सिंह की गजल

तुम कहो ,तो मेरी जाँ मैं अपने अर्ज में प्यार लिक्खूँ।
मैंने जो बसर की जिन्दगी उसे खुद पे उधार लिक्खूँ।।

तुम तक पहुँचती कहाँ है वादी-ए-सबा गुंचा-ए-दिल।
अपनी आरजू लिक्खूँ, चाहे अपना इन्तजार लिक्खूँ।।

लौट के फिर आ गयी है भटकती हुई सी वही प्यास।
सोचता हूँ लब-ए-जाँ पानी का क्या किरदार लिक्खूँ।।

तुम्हारे शहर में तो किसी की कोई पहचान नहीं रही।
मौसम-ए-गुल लिक्खूँ कि बारिश का इजहार लिक्खूँ।।

यह भी पढें   नदी में दो युवा लापत्ता

ये बात दीगर है कि कहे से हर मतला शेर नहीं होता।
रेत के दिल पे फिर कैसे अपना वही इसरार लिक्खूँ।।

ये सुबह से शाम तक क्या तो है,जो जलाता है मुझको।
दिल मोम का एक घर,क्यों वही दुख बार बार लिक्खूँ।।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: