Wed. Jul 15th, 2020

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को फासीवादी संगठन कहना सरासर नासमझी का प्रमाण है 

  • 149
    Shares
फोटो कैप्शन:-  माननीय मंत्री ओम प्रकाश यादव व अन्य अतिथि विशिष्ट अतिथि  विकास दवे को सम्मानित करते

नारनौल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ विश्व का सबसे बड़ा सांस्कृतिक संगठन है, जिसका किसी राजनीतिक दल से कोई प्रत्यक्ष संबंध नहीं है। यह  सामाजिक समरसता और सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर जोर देता है तथा हिंदुत्व इसका प्राण तत्व है। यह कहना है सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री ओम प्रकाश यादव का। स्थानीय  सेक्टर 1 पार्ट 2 स्थित अंतरराष्ट्रीय सांस्कृतिक केंद्र  मनुमुक्त भवन में रविवार को ‘राष्ट्र निर्माण में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की भूमिका’ पर आयोजित राष्ट्रीय विचार गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को फासीवादी अथवा कट्टर हिंदूवादी संगठन कहना सरासर गलत और नासमझी का प्रमाण है  सिंघानिया विश्वविद्यालय पचेरी बड़ी राजस्थान के कुलपति डॉ उमाशंकर यादव ने राष्ट्रीय संघ सेवक संघ को व्यक्ति निर्माण की कार्यशाला बताते हुए अपने अध्यक्षीय वक्तव्य में कहा कि इस कार्यशाला में गढे और तराशे हुए स्वयंसेवक ही आगे चलकर देश और समाज का निर्माण करते हैं। उन्होंने जनसंघ के संस्थापक डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इसी कार्यशाला में तराशे गए अनमोल हीरे बताया।

विशिष्ट अतिथि तथा भाजपा जिलाध्यक्ष शिवकुमार महता    ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को एक संगठित और अनुशासित संस्था बताते हुए सामाजिक और सांस्कृतिक क्षेत्र में इसके द्वारा किए जा रहे कार्यों की भूरी भूरी प्रशंसा की। इंदौर मध्यप्रदेश से पधारे वरिष्ठ साहित्यकार और देवपुत्र पत्रिका के संपादक डॉ विकास दवे ने स्पष्ट किया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ राष्ट्र निर्माण की अपनी रचनात्मक भूमिका में पूर्णतया सफल रहा है। उन्होंने मनुमुक्त मानव मेमोरियल ट्रस्ट द्वारा आयोजित संगोष्ठी को एक सार्थक प्रयास बताते हुए कहा कि इससे इस संगठन से जुड़ी भ्रांतियां दूर होंगी तथा इसकी स्वीकार्यता बढ़ेगी। दिल्ली के राष्ट्रवादी चिंतक तथा राष्ट्रकिंकर समाचार के संपादक डॉ विनोद बब्बर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उद्देश्य राष्ट्र निर्माण में उसकी भूमिका और विशिष्ट उपलब्धियों की विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि आरएसएस कोई संस्था नहीं है बल्कि समन्वयवादी विचार और मानवतावादी जीवन दर्शन है।
डॉ जितेंद्र भारद्वाज द्वारा प्रस्तुत प्रार्थना गीत के बाद चीफ ट्रस्टी डॉ रामनिवास मानव के प्रेरक सानिध्य तथा डॉ पंकज गौड़ के कुशल संचालन में संपन्न हुई इस संगोष्ठी में गोंदिया महाराष्ट्र की सुषमा यदुवंशी, गुरुग्राम हरियाणा की डॉ इंदु राव तथा भीटेडा राजस्थान के प्राचार्य डॉ सुमेर सिंह यादव ने जहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बहुआयामी भूमिका पर प्रकाश डाला वहीं अलवर के कवि संजय पाठक ने देशप्रेम का गीत प्रस्तुत कर संगोष्ठी में प्राण  फूंकने का प्रयास किया। संगोष्ठी के अंत में सभी विशिष्ट अतिथियों तथा आमंत्रित वक्ताओं को शॉल, स्मृति चिन्ह और सम्मान पत्र भेंट कर सम्मानित भी किया गया।
ये रहे उपस्थित:-
 लगभग तीन घंटों तक चली इस विचारोत्तेजक और ज्ञानवर्धक संगोष्ठी में ट्रस्टी डॉ कांता भारती, खनन उपनिदेशक वासुदेव यादव,  जिला बाल कल्याण अधिकारी विपिन कुमार शर्मा, जिला बाल संरक्षण अधिकारी संदीप सिंह, जिला युवा समन्वयक महेंद्र नायक, निगरानी समिति के अध्यक्ष महेंद्र सिंह गौड़, भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी नरेन्द्र झिमरिया,  पीएनबी के प्रबंधक बीएस यादव ,सिंघानिया विश्वविद्यालय पचेरी बड़ी राजस्थान के पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ धर्मपाल भरगढ़, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के  पूर्व  प्रदेश अध्यक्ष प्रमोद शास्त्री, एमडी यूनिवर्सिटी रोहतक के पूर्व सहायक रजिस्ट्रार रामचंद्र यादव ,अध्यापक संघ के प्रदेश सचिव धर्मपाल शर्मा, हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड के पूर्व उपसचिव दुलीचंद शर्मा, प्रगतिशील शिक्षक ट्रस्ट के अध्यक्ष संजय शर्मा, डॉ  कृष्णा वर्मा,  डॉ सुशील त्रिमूर्ति, पूर्व डाकपाल महेंद्र कुमार वर्मा, गिरधारी लाल दायमा, किशन लाल शर्मा, बजरंग लाल अग्रवाल , परमानंद दीवान  धर्मचंद छाबड़ा,  रामानंद अग्रवाल बलदेव सिंह चहल,  उमेदपाल यादव, केसर सिंह राव, कृष्ण कुमार शर्मा ,बनवारी लाल शर्मा एडवोकेट,  हितेश गौड़, गजेन्द्र बोहरा, एन डी शर्मा, प्राचार्य मुकेश कुमार,  गोविंद व्यास, रामगोपाल अग्रवाल , सत्यवीर चौधरी आदि गणमान्य नागरिकों की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।
 फोटो कैप्शन:-  माननीय मंत्री ओम प्रकाश यादव व अन्य अतिथि विशिष्ट अतिथि  विकास दवे को सम्मानित करते

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: