Tue. May 28th, 2024
himalini-sahitya

कोई चला गया, कोई जाएगा, कोई यहि डेरा जमाके बैठेगा : कौशल गोपालवंशी

#सब_साता_मोहका_खेला

कोई चला गया, कोई जाएगा, कोई यहि डेरा जमाके बैठेगा ।
कोई गुलामीको गाला लगाएगा, कोई अपनी पहचानको खोर मे डालेगा ।
कोई बैठा तयारी अपने घरमे लगाके मेला, सब साता मोहका खेला ।
कोई धोती छोडके बन गए है टोपी बाला, सब साता मोहका खेला।



अब उठजा वीर तुम एकेला, फिरसे उपर उठाना है अपना विचारधारा ।
कभी दक्षिणपन्थी तो कभी उतरपन्थी, कबतक लेगा दुस्रोकि सहारा ।
अब चल निकल जा वीर एकेला, फिरसे लागुकर्ना है अपना विचारधारा ।
कोन दिया है कितना धोका , छोडदो यिन सबका लेखाजोखा।
संघर्ष हि है एकमात्र अपना काला, सब साता मोहका खेला ।

जब बनाना है काटो पर रस्ता, तब क्यौ चाह्तो हो यात्रा सस्ता ।
हर घरमे बैठा है घुसपैठा, तब क्यो नहि रख्तो घरमे लाठिभाला।
नाजाने कितना और खाना है धोका, अब तो हुवा सिर्फ नौ बार धोका।
चल छोडो यिन सबका कारणामा , सब साता मोहका खेला ।

जब रचना है मधेस इतिहास, तब क्यो होतेहो यित्ने मे ह्रास ।
जब मान्ते हो लेनिन मार्क्स और मण्डेला,तो क्यो नहि पहचान्ते हो हिटलर और राना
चल जानेदो यिन लोभीपापीका मेला , सब साता मोहका खेला।

कौशल गोपालवंशी
९८५१२३८७०८

लेखक: कौशल गोपालवंशी
९८५१२३८७०८



About Author

यह भी पढें   गुजरात के गेमिंग जोन में आग लगने से १२ बच्चों सहित २८ लोगों की मृत्यु
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: