Sun. May 31st, 2020
himalini-sahitya

ईश्वर का वरदान : निधि भार्गव मानवी

  • 130
    Shares

ईश्वर का वरदान

बादलों के पार अपना स्वप्न

सा इक गाँव है।

ख्वाहिशें नभ को छुएँ फिर भी

ज़मीं पर पाँव है।

तात ने श्रम से किये थे कुछ

सितारे यूँ जमा।

मातु ने टाँके सितारे नेह

आँचल मन रमा।

नेह भाई का मिला जिससे

सबल बन मैं खड़ी

एक सच्ची सी सहेली है

बहन जिससे लड़ी।

ईश के वरदान सम मुझको

अनूठा घर मिला।

पूर्ण मातृत्व करने साथ

बच्चों का मिला।

यह जहां रोशन करूं कुछ

ख्वाब अरु अरमान से।

हो के’ नतमस्तक करूँ मैं

प्रार्थना भगवान से।

शब्द धागे जोड़ कर लिखना

मुझे सिखला दिया।

भावना का एक निर्झर इस

हृदय उपजा दिया।

निधि भार्गव मानवी
गीता कालोनी
ईस्ट दिल्ली

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: