Fri. Oct 18th, 2019

केरुङ से काठमाडौं तक का रेलमार्ग  चीन की प्राथमिकता में नहीं

पडाेसी देश चीन तीन सप्ताह पहले सिगात्से–केरुङ रेलमार्ग का निर्माण कार्य शुरु किया है । सिगात्से तक आए तिब्बत रेलमार्ग आगामी सात वर्ष के भीतर रसुवागढी से २४ किलोमिटर नजदीक के हिमाली उपत्यका केरुङ जोड्ने की चीन की योजना है ।

इससे पहले चीन रेलमार्ग सन् २०२० तक सिगात्से तक लाने का लक्ष्य रखा था लेकिन अब भौगोलिक विकटता का कारण दिखाते हुए समय काे आगे बढा दिया है । इस रेलमार्ग की दूरी ५४० किलोमिटर हाेगी।

पर, केरुङ से काठमाडौं तक का रेलमार्ग   चीन की प्राथमिकता में नहीं है । गत सप्ताह नेपाल भ्रमण में आए चीनी विदेशमन्त्री वाङ यी इस  विषय से अधिक चीन के बेल्ट एन्ड रोड इनिसियटिभ्स (बीआरआई) परियोजना पर अधिक बल दिया था  । केरुङ–रसुवागढी रेलमार्ग को विषय में फिजिबिलिटी अध्ययन का काम पूरा हाेने की जानकारी रेल विभाग नेपाल के सिभिल इन्जिनियर किरण कार्की ने दी है ।

केरुङ–काठमाडौं रेलमार्ग ७२ किलोमिटर के लिए करीब ४ खर्ब रुपैयाँ खर्च हाेने का अनुमान है । इतने अधिक निवेश के लिए भी विषय असमंजस में है ।

राजधानी दैनिक से

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *