Sat. Aug 15th, 2020

भाषण से चलता यह देश कब तक खड़ा रह पाएगा ?: श्वेता दीप्ति

  • 419
    Shares

  सियासत का असली चेहरा नजर आता है
लहू में डूबा अब ये चाँद नजर आता है ।

विश्व जहाँ एक बार फिर से जीने की राह तलाश रहा है । घरों में कैद हम जीवन की संभावना तलाश रहे हैं । वहीं आज जिन्दगी और मौत के बीच बेहाल नेपाली जनता सड़कों पर उतर आई है । बालुवाटार ही नहीं पूरा देश खुद–ब–खुद सड़कों पर है । न उन्हें महामारी का डर है और न ही गिरफ्तारी का । सच तो यह है कि देश की बीमार सरकारी तंत्र से दो–दो हाथ करने के लिए जनता लाचार हो गई है । महामारी से बचने के लिए दवा नहीं, सही व्यवस्था नहीं, सिर्फ भाषण है ।

भाषण से चलता हुआ यह देश न जाने कब तक खड़ा रह पाएगा ? इसे न तो देश की परवाह है, न जनता की, बस स्वार्थ की राजनीति में पद और पावर की पहचान रह गई है । आश्चर्य तो इस बात का है कि यहाँ मौत का भी सौदा होता आया है । विनाशकारी भूकम्प में भी जनता ने इसे भोगा और आज वैश्विक महामारी में भी यह देश भ्रष्टाचार का उदाहरण बन रहा है । रेमिट्यान्स से चलने वाला देश रेमिट्यान्स देने वालों के प्रति भी सहृदय नहीं हो पाया है । महँगे टिकट को खरीदने वाले ही देश का दर्शन कर पा रहे हैं, वो भी महीनों बाद सरकार ने इनकी सुध ली है । बाकी श्रमिक वर्ग आज भी विदेशों में भूखे मरने की स्थिति में हैं । उनकी परवाह सरकार को है ही नहीं । क्वरेन्टाइन के नाम पर होने वाली दुर्दशा सब देख रहे हैं ।

वहाँ रह रहे लोगों को खाना घर से मिल रहा है । मामूली जाँच के साथ उन्हें घर भेजा जा रहा है । सरकार नमक, हल्दी का घोल पिलाकर इलाज की सलाह दे रही है । केन्द्रीय सरकार और स्थानीय सरकार सभी असफल नजर आ रहे हैं । सचमुच यह देश ईश्वर के भरोसे ही चल रहा है । एक नीतिविहीन सरकार और निरीह जनता, जिसका विरोध सिर्फ एक शोर बनकर थम जा रहा है । नक्कारखाने में तूती की आवाज भला कौन सुनता है ?

यह भी पढें   रूस कोरोना की वैक्सीन विकसित करने वाला पहला देश बना राष्ट्रपति पुतिन की बेटी को टीका लगा

जनता को बहलाने के लिए एक शगूफा यहाँ की हर सरकार के पास हमेशा रहा है । आज भी यह तुरुप का पत्ता फेका जा चुका है । जनता को एक काम मिल चुका है और वो इससे अपना मनोरंजन हमेशा की तरह कर रही है । खैर उम्मीद है कि यह तुरुप का पत्ता इस बार खेल को किसी निर्णायक मकाम तक पहुँचा दे । किन्तु यह भी सच है कि रास्ता आसान नहीं है क्योंकि अभी तो प्रमाण खोजना बाकी है । इसलिए हर बार की तरह यह खेल कहीं फिर शगूफा ही न बन कर रह जाए । खैर, जिन्दगी उम्मीद पर टिकी हुई है ।

यह भी पढें   पर्सा स्थित सबैठवा नाका में स्थानीयबासी और पुलिस के बीच झडप, नाका अवरुद्ध

लेकिन सच तो यह है कि–
सियासत का असली चेहरा नजर आता है
लहू में डूबा अब ये चाँद नजर आता है ।

(संपादकीय, हिमालिनी)

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: