Sun. Nov 17th, 2019

धर्म संस्कृति

मिथिला और देवघाट नेपाल भारत सम्बन्ध की अटूट कड़ी : डॉ. श्वेता दीप्ति

“अयोध्या मथुरा माया काशी काञ्ची अवन्तिका । पुरी द्वारावती चैप सप्तैता मोक्षदायिकाः ।।” गरुड़ पुराण के अनुसार

अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति महोत्सव 2018 का आगाज विभिन्न कार्यक्रमों द्वारा

माला मिश्र, बिराटनगर । अन्तर्राष्ट्रीय विद्यापति  महोत्सव 2018 का उद्घाटन  बतौर मुख्य अतिथि बिहार सरकार में

Christmas 2018: यीशु के जन्मोत्सव का ये पर्व चलता है 12 दिन जानें क्या खास हैं इन दिनों में

एजेन्सी:  हर वर्ष 25 दिसम्बर को क्रिश्चन समुदाय अपना सबसे बड़ा पर्व क्रिसमस मनाता है।

शनि अनिष्टकारक नहीं हैं श्रद्धा से करें पूजन हाेंगे सभी कष्ट दूर

नव ग्रहों में सातवें ग्रह माने जाने वाले शनिदेव से लोग सबसे ज्‍यादा डरते जरूर

भारत वर्ष के दिव्य त्यौहार सामा चकेवा : अजयकुमार झा

जलेश्वर। धार्मिक और सांस्कृतिक संपदाओं तथा धरोहरों से परिपूर्ण यह मिथिला भूमि इस विश्व में अद्वितीय

सूर्योपासना का महान् पर्व – छठ पूजा : डा. श्वेता दीप्ति

डा. श्वेता दीप्ति, हिमालिनी अंक (नवम्बर २०१८) में प्रकाशित आलेख हिन्दू धर्म सनातन धर्म है, जो

कंकालिनी मंदिर ने किया दशहरा पूजा का हिसाब सार्वजनिक

 हिमालिनी डेस्क, सप्तरी १८ कार्तिक २०७५, रविवार। श्री श्री १०८ श्री कंकालिनी भगवती मंदिर विकास

महिलाओं के लिए ये कैसी लड़ाई जिसे महिलाओं का ही समर्थन नहीं

डॉ नीलम महेंद्र मनुष्य की आस्था ही वो शक्ति होती है जो उसे विषम से विषम परिस्थितियों

कंकालिनी मंदिर में ६३२ भैंसा बलि प्रदान, युवाओं ने किया मंदिर सर-सफाई

हिमालिनी डेस्क, सप्तरी ।अक्टूबर २१, रविवार। सप्तरी भारदह अवस्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ कंकालिनी भगवती मंदिर में

शाति पूर्वक दुर्गा पूजा सम्पन्न, लोगों ने माँ को नम आंखों से किया विदा

माला मिश्रा बिराटनगर । सीमावर्ती शहर  बिराटनगर जोगबनी व पिपरा पंचायत में दुर्गा पूजा  हर्षोल्लास

सिद्धगन्धर्वयक्षाद्यैरसुरैरमरैरपि | सेव्यमाना सदा भूयात् सिद्धिदा सिद्धिदायिनी

माँ दुर्गाजी की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री हैं। ये सभी प्रकार की सिद्धियों को

बिराटनगर धारेवा कम्प्लेक्स में 68 वर्षो से माँ दुर्गे की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना

माला मिश्रा बिराटनगर । बिराटनगर के धारेवा कम्प्लेक्स में पिछले 68 वर्षों से निरन्तर माँ

ब्रह्मांड को उत्पन्न करनेवाली मां कुष्मांडा देवी का चाैथा रुप

सुरासम्पूर्णकलशं रुधिराप्लुतमेव च।  दधाना हस्तपद्माभ्यां कुष्मांडा शुभदास्तु मे।  नवरात्रि में चौथे दिन देवी को कुष्मांडा